वायु प्रदूषण 'Air Polution ',दुस्प्रभाव ,बचाव ,कारण

 वायु में प्रदूषण से बचना  है तो रोजाना इनका सेवन करे 

भारत में आज के समय में सबसे ज्यादा प्रदूषण दिल्ली में है जहां  शुद्ध ऑक्सीजन मिलना वातावरण में संभव ही नहीं ऐसे माहौल में लोगो को सांस लेना भी बीमारी को बुलावा देने के बराबर है भारत में दिल्ली ही नहीं भारत के अन्य राज्यों में प्रदूषण का स्तर धीरे धीरे बढ़ रहा है इस प्रादु सं से बचना बहुत ही आवश्यक है क्यों की ऑक्सीजन की ही वजह से हम जिंदा  है और जब वही प्रदूषित हो जायेगा तो हम कई बीमारियों के जाल में फस जायेंगे जिससे बचना  हमारे लिए बहुत ही आवश्यक है बढ़ते हुए इस प्रदूषण से बजने के लिए मुख्य उपाय है 

 विटामिन स युक्त आहार लेना   

 विटामिन स युक्त आहार लेना अच्छा विकल्प है क्योंकि विटामिन सी  से इम्युनिटी बढ़ती है विटामिन स से भरपूर फ्रूट्स और सब्जियों का सेवन करना चाहिए एयर पोलुशन से बचने के लिए खूब सारा पानी पीना भी बहुत सहायक होता है पानी ज्यादा पीने से  मेटाबॉलिज्म सही रहता है इसलिए पानी का उपयोग बहुत आवश्यक है





गुड़ का उपयोग  

गुड़ हमारे सरीर के लिए अवस्यक है यह बॉडी के अनवास्यक तत्व को बाहर निकालने मे सहायक है ये गले ओर फेफड़े मे जमी हुई धूल को साफ करता है। 

सहद का उपयोग 

सहद का उपयोग करने से शरीर में रक्त संचार बढ़ता है और अगर इसके साथ काली मिर्च या अदरक के रस को मिला कर सुबह शाम लिया जय तो प्रदूषण से के साथ कि  बैक्टीरिया भी  साफ हो जाएगी साहद के साथ अदरक का रस लेने से इम्यूनिटी  भी मजबूत होती है 

हल्दी का उपयोग करे  

हल्दी का उपयोग बहुत लाभदायक है क्योंकि प्रदूसण  से ईनफेकटेड को रात मे दूध मे हल्दी को मिलकर सोने से पहले लेना चाहिए हल्दी मे पाए जाता है एंटी इंफलामेट्रि   गुड़ जो जमे हुए गले की बैक्टीरिया आओर सूजन दोनों को सही करने मे कारगर है  हल्दी ओर घी को एक साथ मिल कर लेने से खासी मे भी आराम मिलता है 

 टमाटर का उपयोग 

टमाटर के उपयोग से हवा के  प्रदूषण  से बच जा सकता है टमाटर मे बीटा केरोटिन ,लाइकॉपीन ओर विटामिन सी से भरपुर है जो स्वास के रोगों मे भी फायदा करता है बीटा केरोटीन फेफड़े के लिए लाभदायक है । 


वायु प्रदूसण  के कारण 

वायु प्रदूसन का सबसे बड़ा  कारण मानव ही है क्योंकि बढ़ती हुई जनसंख्या और  उसकी जरूरतों को पूरा करने के लिए बड़े बड़े उद्योग लगाए जा रहे है ,जिनकी फैक्ट्रीयों से निकालने वाला कला धुआ हवा मे जहार घोल रहा है । ये जहरीली गैस हवा को प्रदूसीत कर रहे है साथ ही बड़े पैमाने मे परिवहन के संसाधनों से निकालने वाला धुआ भी हवा मे प्रदूसण फैल रहे है ये दूषित हवा मनुस्य के स्वसन तंत्र को पूरी तरह से नुकसान पहुचाता है । पेड़ों का काटना भी वायु की शुद्धता प्रभावित करता है क्योंकि की पेड़ों की संख्या ज्यादा होने से वायु को को फ़िल्टर करने काभी काम ये पेड़ ही करते है शहरों से निकालने वाला कचरे को खुले मे फेका जाता है कचरा सड़ने  से  कयी प्रकार की हानिकारक गैस वातावरण मे मिल कर वातावरण को प्रदूषित करते है । इसलिए मनुस्य हित के लिए इन सभी कारणों पर ध्यान देना चाहिए ।  


No comments:

Post a Comment

thank you for coment